. . हिंदी में मज़ेदार चुटकुले, Hindi Jokes

Total Pageviews

Showing posts with label hit jokes indian hindi. Show all posts
Showing posts with label hit jokes indian hindi. Show all posts

हमेशा Negative हीं क्यूँ सोचती है बेटी

पति रात के दो बजे तक घर नहीं लौटा ....
पत्नी हलकान(परेशान) हो रही थी। अपनी माँ को फोन करके दुखड़ा सुना रही थी-- "इनका जरूर किसी से अफेयर है। पता नहीं कौन है वो खसमानूखानी!"

माँ ने सांत्वना दी-- "तू हमेशा Negative हीं क्यूँ सोचती है बेटी।

....हो सकता है कि वो किसी बस-ट्रक के नीचे आ गया हो...!"😲😜😲😜😜
      

बारिश हो रही है

मैने अपनी पत्नी को कहा - देखो ! बाहर बारिश हो रही है.

मेरी पत्नी बोली : सोचना भी मत, घर में बेसन नहीं है....
प्याज़ बहुत मंहगे हैं
और आज काम वाली बाई भी नहीं आयी....
सारे बर्तन जूठे पड़े हैं....
और हां !
अब दारू पीने के लिये बर्फ मत मांग लेना....
सबेरे से बिजली गयी हुई है

और फ्रिज में ठण्डा पानी तक नहीं,
वैसे भी अब बच्चे बड़े हो गये हैं....
यह सब अब घर में बिल्कुल नहीं चलेगा.

मुझे अपनी ओर गौर से देखते पा कर पत्नी एक पल रूक कर बोली :
मेरी ओर तो देखना भी मत.....
मेरी कमर में वैसे ही दर्द हो रहा है.....
बताओ !
अब पति ये भी नहीं बोल सकता कि बारिश हो रही है.😜
      

गोबर का थैला

वैक्यूम क्लीनर बेचने वाले सेल्समैन ने दरवाजा खटखटाया..

एक महिला ने दरवाजा खोला पर इससे पहले कि मुहँ खोलती...
सेल्समैन तेजी से घर में घुसा और गोबर का थैला घर के कारपेट पर खाली कर दिया।
सेल्समैन-"मैडम, हमारी कम्पनी ने सबसे शानदार वैक्यूम क्लीनर बनाया है। अगर मैं अपने शक्तिशाली वैक्यूम क्लीनर से अगले 3 मिनट में इस गोबर को साफ नहीं कर पाया तो मैं इसे खुद खा जाऊँगा।"

महिला-"क्या तुम इसके साथ चिली सॉस लेना पसन्द करोगे ?"
सेल्समैन-"क्यूँ मैडम ??"

महिला-"क्योंकि .... घर में बिजली नहीं है!!"😂😂😃😂😂😂😂
      

लड़की, रिक्शेवाले से

लड़की, रिक्शेवाले से -" स्टेशन तक के कितने पैसे लोगे ?"

रिक्शेवाला - "मेडम बीस रुपए ",

लड़की - ( हैरान-सा मुँह बनाते हुए ) "स्टेशन के बीस रुपए ?"
रिक्शेवाला - "हाँ मेडम, स्टेशन पूरा दो किलोमीटर है यहाँ से "..
लड़की - ( हाथ से इशारा करते हुए) -" ये तो रहा स्टेशन.!!"

रिक्शावाला लड़की के हाथ को पीछे खींचते हुए - "मेडम, हाथ
पीछे कर लो, कही रेल के नीचे ना आ जाये ! "😂😂😂😂
      

ना खाऊँगा, ना खाने दूँगा

आज A.C. बस से आ रहा था।
मेरे बाजू वाली सीट पर एक युवक और एक युवती बैठे थे।
दोनों एक दूसरे के लिए अजनबी थे।
थोड़े समय बाद वे आपस में बातें करने लगे।

बातचीत उस मुकाम तक पहुँची जहाँ मोबाइल नंबर का आदान प्रदान होता है।
लड़के का मोबाइल किसी वजह से ऑफ था।
तो उसने अपनी जेब से एक कागज निकाला,
लेकिन लिखने के लिए उसके पास पेन नहीं था।
बाजू की सीट पर बैठे हुए मेरा सारा ध्यान उन्हीं दोनों की तरफ था।

मैं समझ गया कि लड़की का मोबाइल नंबर लिखने के लिए लड़के को पेन की जरूरत है।
उसने बड़ी आशा से मेरी तरफ देखा...
मैंने अपनी शर्ट के ऊपरी जेब में लगा अपना पेन निकाला
और.
चलती हुई बस से बाहर फेंक दिया।

और मन में मोदी जी के शब्द याद किये कि ..
ना खाऊँगा, ना खाने दूँगा.😂😛😀😜😃😆😝😂😝😎😝😂